Thursday, 20 September 2018, 4:26 AM

धर्म कर्म

आसान काम जिनसे जल्दी बन जाएंगे धनवान

Updated on 30 December, 2013, 20:58
धनवान बनने की चाहत आपकी भी होगी। सोचते होंगे कि कोई उपाय मिल जाए जिससे जल्दी धनवान बन जाएं। इसके लिए कुछ लोग गलत तरीके अपनाने के लिए भी तैयार रहते हैं। जबकि गलत तरीके अपनाने की बजाय, कुछ पुराने टोटके हैं जिन्हें आजमाकर आप देख सकते हैं। काली हल्दी, अक्षत... Read More

मन जीतने के लिए श्री कृष्ण ने अर्जुन को कौन सा उपाय बताया

Updated on 30 December, 2013, 20:56
अर्जुन अवसर मिलते ही भगवान श्रीकृष्ण के समक्ष अपनी जिज्ञासा का समाधान पाने पहुंच जाते थे। एक दिन उन्होंने पूछा, हे कृष्ण, यह मन बड़ा चंचल है। मनुष्य को भटकाता रहता है। जिस प्रकार वायु को वश में नहीं किया जा सकता, उसी प्रकार मन को वश में करना मुझे... Read More

प्रार्थना से अरदास तक नया साल

Updated on 30 December, 2013, 16:15
आगरा। नए साल के स्वागत को शहर तैयार है। होटल, क्लब और यारों की महफिल में मौज-मस्ती होगी, तो नए साल के स्वागत में प्रार्थना और अरदास भी गूंजेगी। नव वर्ष पर मंदिर, गिरजाघर और गुरुद्वारों में विशेष धार्मिक आयोजन होने जा रहे हैं। शहर में समाज के युवाओं में नव... Read More

नए साल पर गूंजेगा राधे-राधे

Updated on 30 December, 2013, 16:13
मथुरा। शहर में भारतीय संस्कृति का असर, तो कुछ हिंदूवादियों का डर। ऐसे में होटल संचालक अंग्रेजी नव वर्ष पर कार्यक्रम नहीं कराएंगे। 31 दिसंबर की रात जब पूरी दुनिया जश्न की खुमारी में डूबेगी, तब मथुरा की नए साल की सुबह राधे-राधे और जय गिरिराज धरण की गूंज के... Read More

गोविंद मेरो है, गोपाल मेरो है

Updated on 30 December, 2013, 16:11
फैजाबाद। सिविल लाइंस में चल रही श्रीमद्भागवत कथा के चौथे दिन कथा व्यास आचार्य मोहित स्वरूप ने भरत चरित्र की चर्चा की। उन्होंने कहा कि जीवन में दो बातें महत्वपूर्ण होती हैं। इसमें एक अच्छा करना और दूसरा अच्छा सोचना है। कभी-कभी अच्छा करना कष्टदायी हो सकता है, लेकिन अच्छा... Read More

कब-कब मनाया जाता है हिंदुओं का नववर्ष

Updated on 30 December, 2013, 16:09
मथुरा। नव वर्ष नई उमंग नया उत्साह लेकर आता है। पर हिंदूओं में ही अलग-अलग धर्म के लोग अलग-अलग दिन को नव वर्ष का प्रारंभ मानते हैं। हिंदू नव वर्ष का प्रारंभ चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से होता है। नवरात्र शुरू होने के कारण अध्यात्म की बयार बहती है।... Read More

दशकभर बाद फिर 'बुधवार' लाएगा नववर्ष

Updated on 29 December, 2013, 13:26
लखनऊ : साल 2014 का शुभारंभ बुधवार से हो रहा है। 21वीं सदी में यह संयोग दूसरी बार आया है। इससे पूर्व यह संयोग इस सदी में पहली बार वर्ष 2003 में आया था। इतना ही नहीं, इस सदी में 2014 के कैलेंडर की पुनरावृत्ति का संयोग 11 बार आएगा।... Read More

यमुना पूजन को जाड़े को छोड़ पूरे साल रहती घाटों पर भीड़

Updated on 29 December, 2013, 10:33
वृंदावन। शीत का मौसम कड़ाके की सर्दी, ठिठुरता शरीर, ऐसे में रजाई से निकलने का सुबह-सुबह मन ही नहीं होता। एक ओर श्रद्धा है तो दूसरी ओर सेहत की फिक्र। ऐसे में यमुना स्नान नहीं हो पाता। करीब महीने भर पहले यमुना घाटों पर भीड़ होती तो नौका बिहार करने... Read More

बांकेबिहारी मंदिर में साल के अंत में भक्तों की भीड़ का रेला

Updated on 29 December, 2013, 10:32
वृंदावन। जगप्रसिद्ध ठा. श्रीबांकेबिहारी मंदिर में हावी अव्यवस्थाओं से श्रद्धालुओं को परेशानी उठानी पड़ रही है। मंदिर में प्रवेश पाने के साथ सुलभ रूप से दर्शन हो जायें तो बड़ी बात। सुरक्षा में तैनात कर्मी कड़ी मशक्कत के बावजूद श्रद्धालुओं को राहत देने में नाकाम साबित हो रहे हैं। पर्व,... Read More

रामलला का प्राकट्योत्सव शुरू

Updated on 29 December, 2013, 10:30
अयोध्या। अधिग्रहीत परिसर स्थित अस्थाई मंदिर में विराजमान रामलला का 65 वां प्राकट्योत्सव कलश पूजन के साथ आरंभ हो गया। चार जनवरी तक चलने वाले समारोह के लिए संगठन के अध्यक्ष महंत रामचरित्र दास, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, महामंत्री रामप्रसाद मिश्र, कोषाध्यक्ष रामनाथ तिवारी, सहमंत्री पराग मिश्र, कार्यक्त्रम संयोजक संजय कुमार शुक्ल,... Read More

खास खुशियां लेकर आएगी बसंत पंचमी

Updated on 28 December, 2013, 20:40
आगरा। वैसे तो हर बसंत पंचमी पर दयालबाग खुशी से भरपूर रहता है, लेकिन इस बार की बसंत पंचमी ढेरों खुशियां लाएगी। इसमें शामिल होने देश-विदेश से भी आएंगे। राधा स्वामी , दयालबाग की स्थापना 20 जनवरी 1915 (बसंत पंचमी) को पांचवें आचार्य साहबजी महाराज ने शहतूत का पौधा लगाकर की... Read More

आखिर वह क्यों करना चाहती थी महात्मा बुद्घ से विवाह?

Updated on 28 December, 2013, 19:34
बिहार में एक धनाढ्य रहता था। वह अपनी पुत्री मांगदिया का किसी श्रेष्ठ युवक से विवाह करना चाहता था। एक दिन उसने गौतम बुद्ध को देखा, तो प्रभावित होकर अपनी पुत्री से शादी का प्रस्ताव उनके सामने रखा। गौतम ने विनम्रता से उत्तर दिया, मैं संसार त्याग चुका हूं। विवाह कैसे... Read More

यहां किसी को नहीं है धन की जरुरत, क्यों करें लक्ष्मी पूजा

Updated on 28 December, 2013, 19:30
भारत में हर गांव और शहर में देवी लक्ष्मी की पूजा होती है और दीपावली का त्योहार मनाया जाता है। यहां लक्ष्मी माता की पूजा का त्याग करने की कोई सोच भी नहीं सकता। लेकिन एक गांव ऐसा है जो न तो लक्ष्मी माता को मानता है और न इनकी... Read More

जानिए साल की अंतिम एकादशी क्यों है खास?

Updated on 28 December, 2013, 13:24
आज पौष मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि है। शास्त्रों में इसे सफला नामक एकादशी कहा गया है। यह एकादशी अपने नाम के अनुसार मनोकामना सफल करने वाली एकादशी है। पुराणों में बताया गया है कि जो व्यक्ति विधिवत रूप से इस एकादशी का व्रत और रात्रि जागरण करता... Read More

राधा-राधा जपा करो, कृष्ण नाम रस पिया करो

Updated on 27 December, 2013, 19:11
आगरा। बल्केश्वर के गंगे गौरी बाग स्थित शिवनगर मंदिर में चल रही श्रीमद्भागवत कथा में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है। दूसरे दिन भजन राधा-राधा जपा करो, कृष्ण नाम रस पिया करो. पर भक्त भक्ति में लीन हो गए। मानव कल्याण सेवा संस्थान द्वारा आयोजित भागवत कथा में प्रवचन करते हुए... Read More

धर्मनगरी में बदला नए साल मनाने का अंदाज

Updated on 27 December, 2013, 19:10
हरिद्वार। इस बार नए साल का स्वागत अलग अंदाज में होगा। जश्न के लिए जहां एक ओर होटल से लेकर रेस्टोरेंट तक सजकर तैयार हैं, वहीं लोगों को लुभाने के लिए तरह-तरह की डिशें उतारी जा रही हैं। साथ डीजे और डांस के कार्यक्रम रखे गए हैं। यह कहा जा सकता... Read More

गिरिराज प्रभु ने बिखेरी दिव्य मुस्कान

Updated on 27 December, 2013, 19:08
गोवर्धन। अद्वितीय, अलौकिक, अद्भूत। ये शब्द गिरिराज प्रभु की झांकी को निहारते श्रद्धालुओं के होठों से बरबस ही फूट रहे थे। दिव्य भूमि पर अलौकिक अहसास कराता पुष्पों से सजा फूल बंगला, 1100 थालों में सजे छप्पन भोग, हीरे-माणिक, पन्ना और मोती आदि जवाहरात से सजकर तिरछी चितवन से निहारते... Read More

अंतस के चेतना की यात्रा

Updated on 27 December, 2013, 19:07
अगर आप सबके केंद्र को जानना चाहते हैं, इन सबके विलय और उद्गम को जानना चाहते हैं या अपनी प्रकृति को जानना चाहते हैं तो अपने अंतस की यात्रा करें। ध्यान में डुबकी लगाएं। आपके अंतस में एक क्रांति आएगी, अंतस में ज्वालामुखी फटेगा। आपके अंतर्मन में बाढ़ आएगी। यह क्रमिक... Read More

कोलकाता पहुंची ही नहीं संत कबीर की माला

Updated on 27 December, 2013, 19:06
लखनऊ। वाराणसी के कबीर मठ से चोरी हुई छह सौ वर्ष पुरानी दुर्लभ माला कोलकाता पहुंची ही नहीं थी। पुलिस को चकमा देने के लिए थाई चोर कोलकाता पहुंचे थे और वह सफल भी हुए। पुलिस भी मान रही है कि माला देश से बाहर जा चुकी है लेकिन महत्वपूर्ण... Read More

महावीर ने क्यों कहा, हथियारों से गहरा घाव देता है यह

Updated on 27 December, 2013, 15:34
तीर्थंकर महावीर ने कहा है, कर्म करने में तो सभी स्वतंत्र हैं, किंतु उसका फल भोगने में परतंत्र। सत्कर्म का सुफल स्वतः मिलता है और दुष्कर्म की सजा प्रत्येक को भोगनी पड़ती है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को विवेक के साथ ही कर्मों की ओर प्रवृत्त होना चाहिए। अशुभ कर्मों से... Read More

नहीं जानते होंगे हनुमान जी का हुआ था ऐसे विवाह

Updated on 26 December, 2013, 21:14
हनुमान जी को बाल ब्रह्मचारी माना जाता है इसलिए हनुमान जी लंगोट धारण किए हर मंदिर और तस्वीरों में अकेले दिखते हैं। कभी भी अन्य देवताओं की तरह हनुमान जी को पत्नी के साथ नहीं देखा होगा। लेकिन अगर आप हनुमान के साथ उनकी पत्नी को देखना चाहते हैं तो... Read More

ईसा ने कहा, मुझे उपहार में अपने पाप दे दो

Updated on 26 December, 2013, 21:10
संत जेरोम जैसा उपदेश देते थे, वैसा ही आचरण भी करते थे। उनकी कथनी और करनी में कोई भेद नहीं था। वह सादगी, सरलता और सात्विकता की साक्षात मूर्ति थे। जेरोम प्रतिदिन अपने हाथों से किसी-न-किसी असहाय-अनाथ व्यक्ति की सेवा अवश्य करते। इतना करने के बावजूद वह हमेशा कहा करते... Read More

बांकेबिहारी मंदिर में सेवायतों में हुई मारपीट

Updated on 26 December, 2013, 21:08
वृंदावन। ठा. बांकेबिहारी मंदिर में सेवायत अक्सर गड़बड़ियों की वजह बन रहे हैं। बुधवार को अपने यजमानों को दर्शन कराने के विवाद में सेवायतों के बीच जमकर लात-घूंसे चले। गाली-गलौज और मारपीट से मंदिर परिसर में भगदड़ मच गई। दर्शनार्थियों को काफी परेशानी का सामना पड़ा। मंदिर प्रबंधक पर स्थिति... Read More

गीता साक्षात कल्पवृक्ष

Updated on 26 December, 2013, 21:06
आगरा। राधे-राधे जपे चले आएंगे बिहारी., मेरो प्यारो वृंदावन धाम, जगत में न्यारो वृंदावन धाम. की धुन झूमते श्रद्धालु। मार्ग में बिखरती पीतांबरी छटा और कलश धारण कर चलती महिला श्रद्धालु। बुधवार को बल्केश्वर के गंगे गौरी बाग स्थित शिवनगर मंदिर से श्रीमद्भागवत कथा के शुभारंभ पर निकाली गई कलश यात्रा... Read More

दुनिया भर में धूमधाम से मनाया जा रहा है क्रिसमस पर्व

Updated on 25 December, 2013, 19:38
नई दिल्ली : आज क्रिसमस का पर्व उल्लासपूर्वक दुनिया भर में मनाया जा रहा है। कैथोलिक व क्राइस्ट चर्च में प्रार्थना सभाओं के आयोजन किए गए हैं। जगह-जगह झांकियां सजाई गई हैं। दुनिया के सभी चर्च को रोशनियों से सजाया गया है। मंगलवार मध्यरात्रि दुनियाभर के गिरजाघरों में जिंगल बेल... Read More

क्या भगवान श्री कृष्ण ही जीसस क्राइस्ट थे?

Updated on 25 December, 2013, 18:31
लुईस जेकोलियत ने 1869 ई. में अपनी एक पुस्तक 'द बाईबिल इन इंडिया' में लिखा है कि जीसस क्रिस्ट और भगवान श्री कृष्ण एक थे। लुईस जेकोलियत फ्रांस के एक साहित्यकार और वकील थे। इन्होंने अपनी पुस्तक में कृष्ण और क्राईस्ट का तुलना प्रस्तुत की है। इन्होंने अपनी पुस्तक में यह... Read More

एक सूखी रोटी और एक मछली से जीसस ने किया चमत्कार

Updated on 25 December, 2013, 18:29
चमत्कार की कथा सिर्फ पुराणों में ही नहीं है। दुनिया के दूसरे धर्मों में भी ईश्वर के चमत्कारों की कहानियां हैं। ऐसी ही एक चमत्कार की कहानी ईसा मसीह के बारे प्रचलित है। एक बार ईसा मसीह अपने अनुयायियों के साथ एक कबीले में थे। ईसा जब अनुयायियों के साथ भोजन... Read More

अकबरी चर्च में मना था पहला क्रिसमस

Updated on 25 December, 2013, 17:55
आगरा। क्रिसमस पर्व पर आज जो अकबरी चर्च विद्युत बल्बों से झिलमिला रही है, उसमें शहर का पहला क्रिसमस मनाया गया था। घंटे, घड़ियाल बजा कर प्रभु ईसा मसीह से सभी के कल्याण की कामना की गई थी। आर्मेनिया निवासी ईसाई व्यापारियों से अकबर की मुलाकात लाहौर में हुई थी। इस... Read More

संसार का रहस्य क्या है

Updated on 25 December, 2013, 17:53
संसार अनोखा है, विचित्रताओं और विसंगतियों से परिपूर्ण है। अनेकानेक प्राणी, जीवधारी, जीवांश व जीवाणुओं से युक्त यह संसार विशेषताओं का वृहद स्वरूप है। इस पर चर्चा करने से कई ग्रंथों की रचना हो सकती है, लेकिन मौजूदा संदर्भ में चराचर जगत के उन नियामकों का प्रसंग उठा है कि... Read More

सेंटा और क्रिसमस ट्री के संदेश

Updated on 25 December, 2013, 17:52
सेंटा क्लॉज, क्रिसमस ट्री और झांकियों के बिना क्रिसमस की कल्पना भी नहीं की जाती। ये प्रतीक हमारे लिए संदेश लेकर आते हैं : सेंटा क्लॉज : माना जाता है कि तीसरी सदी में तुर्की में जन्मे संत निकोलस का ही आधुनिक रूप है सेंटा क्लॉज। संत निकोलस गरीबों की मदद... Read More