Monday, 21 May 2018, 10:14 AM

जीवन मंत्र

सुबह बिस्तर छोड़ते समय करें ये काम, बनेंगे ईश्वरीय शक्तियों और अक्षय धन के हकदार

Updated on 25 November, 2016, 0:51
जीवनचर्या/दिनचर्या का आरंभ सूर्योदय से होता है। सूर्य प्रत्यक्ष ब्रह्ममूर्त है। सूर्य सृष्टि के आत्मा ग्रह है। चन्द्रमा सृष्टि में मन का कारक है। पृथ्वी सृष्टि में सभी प्राणियों की जननी है। यह सृष्टि जिससे उत्पन्न हुई जिससे पलती है पोषित होती है जिससे इसका संहार होता है, इन तीनों... Read More

सुख से वैभव संपन्न जीवन जीने की चाह है तो अवश्य पढ़ें...

Updated on 10 November, 2016, 6:57
दुनिया का रंग-ढंग देखकर एक संन्यासी के मन में विशाल आश्रम बनाने का जुनून सवार हो गया। आर्किटैक्ट को बुलाकर उसका नक्शा तैयार करवाया और इस बात की खासतौर पर हिदायत दी कि पूरा आश्रम सुख-सुविधा से सम्पन्न होना चाहिए। उसकी भव्यता का कोई मुकाबला न कर सके और देश-विदेश... Read More

गिफ्ट में मिला ये सामान कर सकता है आय में वृद्धि

Updated on 9 November, 2016, 8:05
गिफ्ट एक ऐसी वस्तु है, जो शुभ अवसर पर मंगलकामनाओं के साथ अपने प्रियजन को दी जाती है। जब किसी को तोहफा देने का वक्त आता है तो समझ नहीं आता कि क्या दिया जाए, जो लेने वाले का दिल मोह ले। कुछ ऐसी वस्तुएं होती हैं जो वास्तु, ज्योतिष... Read More

पुरुषों की कुछ इच्छाएं कभी परवान नहीं चढ़ती, जीवनकाल में कभी नहीं भोग सकते ये सुख

Updated on 9 November, 2016, 8:04
श्रीरामायण में श्रीहरि विष्णु के अवतार भगवान राम और उनके कुल का संपूर्ण जीवन वृतांत अंकित है। जिसमें विभिन्न प्रसंगों के माध्यम से आम जनमानस के लिए बहुत सारे संदेश दिए गए हैं। जिन्हें अपनाकर जीवन में सुख और वैभव पाया जा सकता है। रामायण के अरण्य कांड में एक... Read More

पवित्र नदियों में स्नान के हैं अनेक लाभ, जानकर स्वयं को डूबकी लगाने से रोक नहीं पाएंगे

Updated on 9 November, 2016, 8:03
गंगा, क्षिप्रा, सिंधु हो या ब्रह्मपुत्र, गोदावरी, यमुना भारतीयों में स्नान करना संस्कारगत है। ये संस्कार युगों से चले आ रहे हैं। अनेकों राजनीतिक सत्ताएं आईं लेकिन भारतीयों को पवित्र नदियों, सरोवरों में स्नान करने की परंपरा को खंडित न कर सकीं। अंग्रेजों ने इसे अंधविश्वास कहा और इसकी आलोचनाएं... Read More

सुबह-सुबह दोस्ती करें इन 5 आदतों से, दिन की होगी अच्छी शुरुआत

Updated on 8 November, 2016, 0:03
सुबह-सुबह कई चीजों के बारे में सोचकर अधिकतर लोग तनाव में रहते हैं। सुबह सवेरे हम सभी को काफी काम होता है, लेकिन इसे इग्नोर करते हुए हमें कुछ ऐसी आदतों को अपने रूटीन में शामिल करना चाहिए जिससे हम अपनी लाइफ में तनाव को कम कर इसे इंप्रूव कर सकते... Read More

ये हैं वो 10 नियम जिन्हें जाने बिना कभी सफल नहीं हो पाएंगे आप

Updated on 26 October, 2016, 8:30
ऐसे असफलता को छोड़े पीछे.. कई बार ऐसा होता है कि आप खूब मेहनत करते हैं, जी-जान लगाकर अपना काम भी करते हैं लेकिन सफलता आपसे दूर-दूर ही रहती है। अक्सर आप सोचने लगते हैं कि आपकी असफलता का मुख्य कारण आपका भाग्य है? अगर आप भी ऐसा ही सोचने पर... Read More

क्या आपके रिश्ते में कड़वाहट, तो करें ये काम!

Updated on 3 August, 2016, 10:10
अगर आप रिश्तों में बुरे दौर से गुजर रहे हैं, तो भविष्य के बारे में सोचना आपके रिश्ते में गरमाहट ला सकता है. क्योंकि यह उलझनों से उबरने में मदद करता है और जीवन में सकारात्मकता लाता है. हालिया अध्ययन में यह बात सामने आई है.   वाटरलू यूनिवर्सिटी में अनुसंधान करने... Read More

अद्भुत था ये दार्शनिक, 8 साल की उम्र में कंठस्‍थ थे वेद, 32 की उम्र तक रच दिए कई ग्रंथ

Updated on 11 May, 2016, 1:46
''ज्ञान की पंथ कृपाण की धारा'', यानी की ज्ञान को प्राप्‍त करना दोधारी तलवार पर चलने के समान है। भारतीय संस्कृति और समाज के सर्वाधिक लोकप्रिय, और जनमानस के मन में अपने हर शब्‍द से खास जगह बनाने वाले, गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रामचरित् मानस में लिखी यह चौपाई सर्वकालिक... Read More

बच्चों के साथ संबंध सुधार कर डिप्रेशन से किया जा सकता है बचाव!

Updated on 9 May, 2016, 23:20
न्यूयॉर्क। अगर मांएं अवसाद से पीड़ित रहती हैं, तो उनके अपने बच्चों के साथ व्यवहार भी कड़वाहट भरा होता है। बच्चों के साथ संबंध में सुधार लाकर ही अवसाद से बचा जा सकता है। एक शोध में यह पता चला है। शोध के निष्कर्षों से पता चला है कि बच्चों... Read More

ऐसे छुड़ाएं बच्चों की ज्यादा टीवी देखने की आदत

Updated on 25 April, 2016, 9:05
नई दिल्ली। बच्चों की सही आदतें सिखाना आजकल के वक्त में सबसे बड़ी चुनौती हैं। आजकल अक्सर घरों में माता-पिता दोनों ही काम करते हैं, ऐसे में बच्चों के साथ गुजराने के लिए थोड़ा ही वक्त मिलता हैं। ऐसे हालात में बच्चों का सहारा बनता है टीवी, लेकिन ज्यादा टीवी... Read More

सुखी रहने का सफल मंत्र

Updated on 31 March, 2016, 11:15
ओशो दुख पर ध्यान दोगे तो हमेशा दुखी रहोगे, सुख पर ध्यान देना शुरू करो। दरअसल, तुम जिस पर ध्यान देते हो वह चीज सक्रिय हो जाती है। ध्यान सबसे बड़ी कुंजी है। दुख को त्यागो। लगता है कि तुम दुख में मजा लेने वाले हो, तुम्हें कष्ट से प्रेम है।... Read More

तनाव में है तो किसी की मदद करने से बेहतर महसूस होगा!

Updated on 15 December, 2015, 11:11
न्यूयॉर्क। अपने दोस्तों, परिचितों और यहां तक कि अनजान लोगों की भी मदद करना रोजमर्रा के तनाव के कारण हमारी भावनाओं और मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को कम कर सकता है। एक सर्वे में यह दावा किया गया है। अमेरिका के येल यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ता एमिली... Read More

मरते वक्त मुंह में तुलसी, गंगाजल और मुसलमान आबे जमजम रखते हैं

Updated on 8 December, 2015, 19:49
कहते हैं क‌ि ज‌िस द‌िन जीव का जन्म होता है यमराज उसी द‌िन से उसके पीछे लगे रहते हैं और जैसे ही मौत का समय आता है उसे अपने साथ लेकर इस द‌ुन‌िया से चले जाते हैं। इसल‌िए ज‌िसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु न‌िश्च‌ित है। लेक‌िन मृत्यु के बाद... Read More

यह दो काम नहीं करने वाले का धन नाश होता है

Updated on 5 December, 2015, 14:14
अगर आप चाहते हैं क‌ि आपका धन बढ़े और आप सुख पूर्वक जीवन जीएं तो हमेशा यह दो बातें याद रखें क्योंक‌ि जो इन्हें याद नहीं रखते हैं और अपने धन को बचाने की कोश‌िश करते रहते हैं उनका धन क‌िसी न क‌िसी रूप में नाश हो जाता है और... Read More

अवश्य फल देते कर्म

Updated on 5 November, 2015, 7:47
कर्मफल एक अटल सत्य है. क्रिया की प्रतिक्रिया सुनिश्चित है. जो किया गया है, उसका भुगतान आज नहीं कल अवश्य ही करना होता है. हां, ऐसा हो सकता है कि कुछ कर्म देर से फल देते हैं, और कुछ तत्काल. शराब, गांजा के सेवन करते ही नशा चढ़ता है. विषपान... Read More

काम के दौरान तनाव से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय!

Updated on 25 October, 2015, 23:05
नई दिल्ली। तनाव से बचने के लिए अपने दफ्तर में काम करने के दौरान थोड़ी-थोड़ी देर बाद ब्रेक लेते रहें। यानी थोड़ा टहलें और हल्का नाश्ता और चाय या कॉफी लें, फिर काम में लगें। ऐसा आठ घंटे के दौरान दो या तीन बार करें। तनाव आपके पास नहीं आएगा।... Read More

3 मिनट मेडिटेशन से पूरे दिन की ताजगी

Updated on 5 October, 2015, 10:51
भागदौड़ के इस जमाने में सेहत कहीं पीछे छूटती जा रही है। स्टूडेंट्स से लेकर युवा तक सभी तनाव की चपेट में हैं। सभी इससे निजात पाना चाहते हैं। ऐसे अगर कोई कहे कि महज 3 मिनट में पूरे दिन के लिए ताजगी मिल सकती है तो शायद आपको यकीन... Read More

आपके पास है ऐसा बल जो बना सकता है आपको महान

Updated on 5 September, 2015, 20:31
गौतम बुद्ध एक बार अपने अनुयायियों को प्रवचन दे रहे थे तब उन्होंने विराट नगर के राजा सुकीर्ति की कथा सुनाई। वह कहते हैं कि राजा सुकीर्ति के पास लौहशांग नामक एक हाथी था, जिसके जरिए राजा ने कई युद्धों में विजय पाई थी। युद्ध कला में प्रवीण लौहशांग जब... Read More

अपने आत्मविश्वास से जुड़ें ... ये हैं 10 आसान रास्ते

Updated on 4 September, 2015, 20:05
जिंदगी में कामयाब होने के लिए सबसे जरूरी यदि कुछ है तो वह है आपका आत्मविश्वास... आपने अलग-अलग फील्ड के कामयाब लोगों से बात करते हुए पाया होगा कि उनका आत्मविश्वास कमाल का है। यही आत्मविश्वास उन्हें आगे बढ़ने और कुछ करने की प्रेरणा देता रहता है। इसलिए जरूरी है... Read More

बच्चों की ऊर्जा शक्ति को विकसित करने की आवश्यकता है

Updated on 31 August, 2015, 12:37
नेपोलियन बोनापार्ट के जीवन को समझें। उसने अपनी ऊर्जा शक्ति स्वयं विकसित की। जब वह ऐसा कर सकता है तो आप क्यों नहीं? इसलिए आप अपने नाम के पहले जितने भी अलंकार, पद व पुरस्कारों के नाम लगाना चाहें, लगा लें, ताकि आपको यह याद रहे कि आप इतने अलंकारों... Read More

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

Updated on 31 August, 2015, 9:32
दूसरों की प्रसिद्धि से हतोत्साहित होने के बजाय कुछ पाने की तरफ कदम बढ़ाएं। भले ही छोटी सफलता मिले लेकिन वह आपको बड़ी खुशी देगी। कभी-कभी जीवन में बहुत खालीपन का एहसास होता है। आप उत्तर ढूंढने की कोशिश करते हैं कि आखिर यह खालीपन क्यों है। अपने जॉब को लेकर... Read More

दोस्तों को इन पैमानों पर परखें

Updated on 31 August, 2015, 9:31
मित्र की मदद से हमारा जीवन आगे बढ़ना चाहिए, दोषों पर नियंत्रण होना चाहिए। मित्रों के चयन से पहले से कुछ पैमानों पर विचार करने से हम बेहतर मित्र बना सकते हैं। हमारे जीवन पर मित्रों का गहरा प्रभाव रहता है। वे हमारे व्यवहार और विचार को प्रभावित करते हैं। कई... Read More

तो यह है जीवन का परमआनंद

Updated on 30 August, 2015, 9:09
हमारे धर्म ग्रंथों में अमूमन इस बात का उल्लेख मिलता है कि ईश्वर की शरण में जाने से मनुष्य को परम आनंद की प्राप्ति होती है। आखिर ये परम आनंद क्या है? ये कहां मिलता है? एक आम आदमी को इन दोनों प्रश्नों का उत्तर कभी नहीं मिल पाता और इसीलिए... Read More

वर्तमान का आनंद उठाएं, भविष्य आनंदमय होगा

Updated on 30 August, 2015, 9:08
जर्मन मूल के आध्यात्मिक गुरु एक्हार्ट टाल का चिंतन कहता है, वर्तमान में होने वाली घटनाओं पर प्रतिक्रिया देने की बजाए उसे सहज भाव से स्वीकार लेना ही हमारे जीवन को आनंदमय बना देता है। अतीत और भविष्य को छोड़ वर्तमान के साथ चलकर यह सुख हर व्यक्ति पा सकता... Read More

जीवन जीने के दो ढंग

Updated on 28 August, 2015, 9:22
हमारी चेतना पर जब विचारों का बहुत बोझ होता है, मन में ऊहापोह होती है, तो समझें कि चेतना कैद हो गई है, उस पर ताला लग गया है। इस कैद से परे जाने पर ही आनंद मिल सकता है। जीवन जीने के दो ढंग हैं- एक ढंग है चिंतन का,... Read More

बंधन नहीं मुक्ति का परिचय है धर्म

Updated on 28 August, 2015, 9:21
हम सभी अपने धर्मों को श्रेष्ठ साबित करना चाहते हैं। हम दूसरे धर्मों की खूबियों के प्रति आंख मूंदे रहते हैं। सच्ची धार्मिकता तो तमाम तरह के बंधनों से मुक्त होने में ही है। यह जीवन, यह अस्तित्व, यह दुनिया एक है, लेकिन हमारा मन इसे खंडों में बांट देता है... Read More

चालबाजियों में नहीं है जीवन का सुख

Updated on 26 August, 2015, 8:00
अगर हम खुद को श्रेष्ठ और बेहतर बनाने के लिए काम कर रहे हैं तो हमारे दिमाग में कई तरह की चालबाजियां आने पर भी हम उनमें भाग नहीं लेते। हम ईमानदारी से जीवन जीते हैं। चालाकियों के साथ हम दूसरों को प्रभावित तो कर सकते हैं लेकिन ये हमें... Read More

ई-राखी से रिश्ता बनाएं खास

Updated on 25 August, 2015, 13:51
यूं तो करीबी रिश्तों को निभाने के लिए किसी खास दिन की जरूरत नहीं होती, फिर भी रक्षाबंधन का इंतजार हर किसी को रहता है। भाई-बहन के चुहल भरे प्यारे से रिश्ते का त्योहार होता ही है इतना खास। इसलिए जब दोनों में से कोई एक भी दूर होता है,... Read More

सत्य कहना और सहना दोनों ही कठिन हैं

Updated on 22 August, 2015, 12:36
सत्य ईश्वर प्रदत्त वह दिव्य शक्ति है, जिसे सांसारिक एषणाओं की कोई भी तीव्रतर व दृढ़तम तलवार काटने का साहस नहीं कर सकती। सत्य वह कवच है, जिस पर झूठ, फरेब, अनास्था, अनाचार, पाप, पश्चाताप, वैमनस्य और ईष्र्या के दुर्ग सहज रूप में टकराकर बुर्ज-बुर्ज हो जाते हैं। सत्य कहना... Read More